Monday, February 7, 2022

त्रिवेणियाँ : Confluences

 


 

 

 

पत्तियों की नसों में ज़िन्दगी के पैगाम

इस दिल की नसों में दौड़ता है प्यार

झूमता थिरकता है सारा जहाँ

Life's lessons in the veins of these leaves

Love courses through the veins of this heart

The whole world dances and rejoices

 

 

यादों की किताब के कुछ कोरे पन्ने 

पुराने दोस्तों से फिर मिले हैं

नई कहानियाँ अब साँसें ले रही हैं

 

Blank pages in the book of memories

Upon meeting old friends again

Are breathing life into new stories

 

 

काँच के टुकड़ों को बटोर के

दिल के टुकड़ों को समेट  के

वही तस्वीर ना सही, नयी उम्मीद ज़रूर बंधती है

- July 27 2020

Gathering up the shards from a broken mirror

Picking up the broken pieces of this heart

Frames a new hope alright if not the old picture


 

ज़िन्दगी तू क्यों इतने सवाल करती है

मौत तू क्यों खामोशी से जाती है

जवाब में ज़रा खुद से मिलवा दे

Life, why pose so many unanswerable questions?

Death why do you tiptoe around?

In your answer help me meet myself

 

 

आसमाँ के माथे पर है बादल की कलगी

पहाड़ों के पीछे चुप चुका है सूरज

शर्मिला चाँद भी चेहरा आधा ढाँपे घूमने निकल पड़ा है

The forehead of these skies crested by a cloud

The sun hiding behind the mountains

A shy moon has ventured out with a half-hidden face

 

 

पेड़ों की शाखों की तरह

बाहें भी रस्ता तकती हैं

की कब प्यार की बौछार में झूम उठें

Like the branches of a tree

These arms too look for a way

To come alive dancing amid a shower of love

 

 

चिड़ियों का चहचहाना लोगों का ज़ोर ज़ोर बतियाना

पत्तियों की सरसराहट लहरों की लगातार करवट

शोर सा भी लगता है संगीत भी

Birds twittering people chattering

Leaves rustling waves breaking

Feels like noise yet like music too

 

 

पानी की परली तरफ टिमटिमा रहीं हैं रोशनियाँ

स्याह से आसमानों पर टिमटिमा रहें हैं तारे भी

क्या पता उस छोर कौन सी कहानियाँ जन्म ले रहीं हों

Lights flickering across the waters

Stars flickering on an inky sky

Who can tell what stories are birthing on the other shore

 

 

सुबह इन आँखों में सपनों को सजा कर

दिन भर अरमानों को दिल में बसा कर

हर रात इस झाँकी को अलविदा कहते हैं

Dreams decorate these morning eyes

Desires are housed in this heart all day

Each night bidding adieu to this

enchanting tableau

 

 

Peeking through the blinds

Found the sun peeking through the clouds

Spectacular joy greeting us all around

- July 31, 2021

पर्दे  के पीछे से झाँक कर देखा तो

सूरज भी झाँक रहा था बादलों  के बीच से

आनन्द से सराबोर नज़ारा था चारों ओर

 

 

Silver ribbon through the verdant green

Frothy whites through rocks unseen

The mists appear yet the veils lift away

- September 19, 2021 Garfield Ledges hike 

 सब्ज़ हरे रंगों के बीच चाँदी की डोर

छुपी चट्टानों के बीच सफेद पानियों  का शोर

धुंध नज़र आती है मगर पर्दे हट जाते हैं

 

Sunday, January 2, 2022

Voices

Picture courtesy: Abhi Shri Saxena


Cantankerous
Clamoring
These voices in my head

Incessant, persistent
Consistent, insistent
The cacophony of their tumultuous taunting

Visions floating
Perhaps some gloating
About all that’s been done and said

Exhaustion mounting
Anxiety haunting
Will this ever end

Hmmmmm
A deep exhale

Ommmmm
Resets the scale

Tuning the inherent Taanpura
Aligning with my own inner ‘Sa’
Melodies arising
Stillness inspiring
Spaciousness unfolding
Resonance abiding

Is this the immunity
I need from the
Cantankerous
Clamoring
Voices just ahead?!
- December 27, 2021