Tuesday, November 26, 2019

Companion... हमसफ़र



Photo by Jon Flobrant on Unsplash


हमसफ़र और कोई नहीं
साथ अपने हूँ खुद मैं ही
हर सफर है मेरा ही
नक़्शे-कदम यूँ ही चुन लूँ

Companionship overrated
My own company underrated
Each journey sacred is mine alone
Choose each step with intention
हमकदम दूसरा नहीं
अलहदा भी तो कोई नहीं
हर कदम है पसंद मेरी
खुद ही आप से मिलूँ

In-step with no other I see
An all-encompassing eternity
Each stride of my own volition
Merging within without condition
हमनशीं हर कोई यहीं
इस पल का नशा ही है सही
है मेरे लिए हर ये खुशी
उसे क्यों ना नज़र उतार लूँ
Each co-traveler, a soul beloved
Each moment, itself bewitched
Each joy, one I cherish
Each embraced, in wholehearted satisfaction
-Nov 23, 2017
-Jan 18, 2019

No comments:

Post a Comment