Sunday, April 12, 2020

साक्षात्कार : The Interview


0 April 2020

Photo by Daniel Lonn on Unsplash

साक्षात्कार
The Interview
अजीब सा आलम है
दिल में न जाने
क्या क्या छुपा है
A strange mood engulfs
Unknown, unacknowledged emotions
Tucked away in the corners
That my own heart shuns
कहना चाहता है दिल
दस्तक दे रहा है कई दिनों से
पर सुनने की फुर्सत कहाँ
Yet it hopes to express
Knocking for days at my door-step
It's so easy to repress
Who has the time to listen
या फिर एक खौफ सा है…
न जाने क्या क्या कहने लगे?
कितने सवाल कर बैठे?
…or is it simply my fear?
What might it say, and what will I hear?
Questions I may want
To just steer clear?
पर अब इस दिल ने ही
अपने दिल को मजबूर कर दिया
थाम लिया यहीं
कि बैठो कुछ देर मेरे पास
उठने दो सारे एहसास
But now this heart itself has forced
My heart to re-familiarize
Held me in its arms, saying with a smile - 
Come! Sit with me for a while
And allow all emotions to arise
भर जाने दो इन अँखियों को आज
गर उफन उफन के निकले ये गुबार
कहने दो सब, बहने दो इन्हें हर बार
Let these eyes get filled up today
Let the roiling storms boil over this way
Let them speak what they must
Let them flow my dear, let them just…
शायद दर्द की कोई सीमा ही न हो...  

क्या उसी में समाए हुए हैं सारे गीत?
क्यों वहीं नज़र आते हैं 
ये कविता-संगीत?
क्या दर्द की शह में ही होती है 
इस दिल से मुलाकात?  
Perhaps there's no limit to sorrow…

Is that where these songs dwell?
Is it the only destination
For poetry and music to cast their spell?
Can I meet my heart only 
In the face of pain?
क्या ये ज़रूरी है मगर?
क्या ख़ुशी के गीत वर्जित हैं मुझे?!
या फिर इसी उतार-चढ़ाव में बंध जाने पर सच्चाईयों का सामना होता है?
क्या मोह में पड़ कर ही 
माया का जाल समझ में आता है?
Is this necessary though?
How can it be so?
Are songs of joy simply forbidden?
Or facing Truth always bound in fluctuation?
Is this the only clue to illusion -
A web of endless attachments?
अब भी उथल-पुथल सी मची है
ज़हन में अजनबीपन सा है
खुद से ही नैन मिलाने में
न जाने फिर 
नयी हिचकिचाहट क्यों है?
The turmoil persists
The stranger within insists
Yet
Meeting my own eyes
Stops me in my tracks
A new hesitation desists
सवालों के इन बहाव में
बेबसी के तनाव में
छुपे कई अहम चुनाव हैं!
In the endless flow of questions
Under the stress of helplessness
Lie several crucial considerations!
इस पल का खिंचाव है 
इस तन का रिझाव है
इस मन का बर्ताव है
इस रूह का प्रस्ताव है
The magnetism of this moment
The body's persuasive element
The mind's untamed behavior
The spirit's proposition the savior
प्रश्न सिर्फ पड़ाव हैं
न है प्रेम का आभाव
न ही किसी और का दबाव

अंतर-मन की व्यक्ति में
अंत-हीन प्रभाव है
इस अनोखे अनुभव में ही
इस साक्षात्कार के उत्सव से ही
पूर्णतः हर्षोल्लास संभव है
The questions, a pit-stop
To simply reassure
That there's neither the lack of love
Nor any external pressure

In connecting with the inner-self
In unfettered self-expression
Lies endless transformation
This interview, this celebration
Makes possible my unbridled exultation

 - 10 April 2020

No comments:

Post a Comment