Monday, August 17, 2020

ऐ मौत : To Death

 

ऐ मौत

To Death

अक्सर

तेरे बारे में

सोचा किया करते हैं

कौन है तू?

क्या चाहती है?

क्यों आती है?

क्या माँगती है?

I've often

Thought about you

Who are you?

What do you want?

Why do you come?

What do you ask for?

कब तू दस्तक देगी ,

कौन हैं जो जानते हैं?

बिन-बुलाई मेहमान तुझे

ये सभी मानते हैं

When will you knock

Who can ever know?

An uninvited guest

They all know you so

अक्सर

तुझे जानना चाहा था

कई बार

तेरा साथ हमने माँगा था

I've often

Wanted to get to know

Several times

I've yearned for your embrace

हर बार मगर

तूने परे धकेला

कभी न समझ पाए थे हम

ऐसा खेल तूने क्यों खेला

Each time however

You pushed me away

I never understood

The games you chose to play

पर तब

ये जान पाए थे

कि मुस्कुराती हुई

तू साथ निभा रही थी मेरा

I suppose

I had not realized

That smilingly

You were right by my side

झिंझोड़ती हुई

याद दिला रही थी

वो गुज़रा हुआ पल

सिर्फ और सिर्फ, है तेरा

Shaking me awake

With reminders

That each moment passing

Belongs solely to you

उस पल

पर मेरा कोई हक़ नहीं

उसकी ज़ालिम यादों से परे

है इक नया फूल खिला

I cannot

Lay claim to that moment

Yet beyond its cruel memories

A new flower may blossom

पलक झपकते ही मगर

तू उसे भी चूम जायेगी

अपनी सर्द सी बाहों में

तू उसे समाएगी

In the blink of an eye

You will kiss it as well

In your cold arms

It must thereafter dwell

तो अब

यहाँ क्या बचा है मेरा?

So then

What remains here for me?

चंद सी साँसें हैं

कुछ भावनाएँ हैं

थोड़ी ख्वाहिशें हैं

कई कामनाएँ हैं

A few breaths

Some emotions

Some desires perhaps

A few aspirations

कि ऐ मौत

इस ज़िन्दगी से हमें

रोज़ तू मिलवाती रहे

हर पल में कैसे जियें

ये हमें सिखाती रहे

That oh Death

May you always

Help me meet this Life anew

Teach me

To live each moment, to renew

वक़्त आने पर

शान्ती और संतुष्टि सहित

हल्के से तू अपनाए

उस पार के द्वार खोल

आप से हमें मिलवाये

And when its time

In peace and satisfaction

Embrace me lightly

Unlock that portal

Help me meet the immortal

तेरी बाहों में समा

चैन की नींद सो जाएँ

प्रेम के मरहम का

सुकून दिलों में छोड़ जाएँ

In your arms we find

The deep sleep of peace

In each heart we leave behind

The salve of eternal love

जन्म-मरण का सिलसिला

अब बस, यहीं तोड़ पाएँ

Break free at last

Of these cycles of birth and death

- May 2, 2012

- August 17, 2020

 

Photo by Chris Buckwald on Unsplash

1 comment:

  1. As usual... So very Well expressed and both English and Hindi... Is there a gender of Maut or Death?

    ReplyDelete